भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आफत में है जान / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:23, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़के भैया रंग-रंगीले
खूब चबाएँ पान।
मँझले भैया गप्प-गपीले
दिनभर खाएँ कान।
हमारी आफत में है जान।

हम दोनों का हुकुम बजाएँ,
रूठें जब वे, हमीं मनाएँृ,
फिर भी तेवर हमें दिखाएँ
जैसे तीर-कमान।
हमारी आफत में है जान।

ठाठ-बाट तो रखते ऐसे,
मालिक हों दुनिया के जैसे,
देते न लेकिन दस पैसे,
हैं कंजूस महान।
हमारी आफत में है जान।