भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन नयनन नँदलाल बसे री! / स्वामी सनातनदेव

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:23, 7 जनवरी 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वामी सनातनदेव |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग आसावरी, ताल धमार 29.9.1974

इन नयनन नँदलाल बसे री!
जब सों लखे तबहि सों सजनी! नयननमें ही आय फँसे री!
करि-करि जतन निकासन चाहे, तदपि न नैंकहुँ कहूँ खसे री!
तिनही में मनहूँ सखि! उरझयौ, कहा करूँ हरि आपु ग्रेसरी!॥1॥
लगी गाँठ यह खुलत न खोलै, प्रीति-वारि सों भीजि ठसे री!
मैं तो विवस भई अब आली! देखि-देखि मोहिं लोग हँसे री!॥2॥
हँसी होय वास खुसी, करूँ का, अब तो हिय में ललन लसे री!
उनही की मैं भई, और सब जग के नाते-नेह नसे री!॥3॥
तद्यपि तनकों विरह तपावत, तदपि न मनसों कबहुँ खसे री!
विरह-लिन दोउनमें आली! रसिकराय रस ह्वै विलसे री!॥4॥
वे रस रूप उनहि सों हिलि-मिलि तन-मन हूँ रस ह्वै सरसे री!
तन-मन को अब भान न सजनी! रस ही रस बस अब बरसै री!॥5॥