भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस्कूल चल / अंजनी कुमार सुमन

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:36, 11 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंजनी कुमार सुमन |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गोली बकरी उजरी गाय
हिन्दी इस्कुल चल रे भाय

जहाँ मिलै छै शिक्षा ऊँचा
खाली नै पहनाबै टाय
गोली बकरी उजरी गाय
हिन्दू इस्कुल चल रे भाय।

सब इस्कुल के नाम बड़ा छै
अप्पन के तेॅ काम बड़ा छै
जहाँ के शिक्षक लगै बाप सन
मसटरनी लागै छै भाय
गोली बकरी उजरी गाय
हिन्दी इस्कुल चल रे भाय।

इंगलिस इस्कुल में की पढ़ना
जेकरा आबै जेब कतरना
झुटठो रटबै डैडी-हैल्लो
मुरनिंग-फुरनिंग टाटा-बाय
गोली बकरी उजरी गाय
हिन्दी इस्कुल चल रे भाय।