भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उगने की प्रतीक्षा / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:50, 30 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आओ मुझे दिग्भ्रमित करो तब तक;
निरंकुश! तुम्हारा जी न भरे जब तक।

 देखूँ- दानव जीतता है तुम्हारे भीतर का,
या मुस्काता उन्मुक्त देवत्व मेरे भीतर का।

मौत से अधिक कुछ नहीं, नियति तौलेगी,
अभी मौन है घड़ी, कभी मेरी बात बोलेगी।

मेरे पक्ष में नारा देगा क्रूर समय पिघलकर,
और हाँ गिड़गिड़ाएगा विविध रूप धर कर।
 
एकटक कालगति देखो और समीक्षा करो,
डूबा सूरज; मेरे साथ उगने की प्रतीक्षा करो

-0-