भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उच्चारण सँ बूझब अर्थ / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:41, 22 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एस. मनोज |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatMaithiliRac...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंशक माने हिस्सा होय आ अंसक माने होय कंधा
शूरक माने वीर होय आ सूरक माने होय अंधा

पानिक माने जल होय आ पाणिक माने होय अछि हाथ
संघक माने संगठन आ संगक माने होय अछि साथ

कपिशक माने मटमैला आ कपीशक माने छथि हनुमान
अभिज्ञक माने जानैबाला अनभिज्ञक माने होय अनजान

अविलम्बक माने शीघ्र होय आ अवलम्बक माने अछि सहारा
तकुलक माने वंश होय आ कूलक माने होय किनारा

यूतिकें माने मेल होय आ यतिकें माने होय विराम
च्युतक माने गिरल होय आ चूतक माने होय अछि आम

अस्रक माने नोर होय आ अस्त्रक माने होय हथियार
कृपणक माने कंजूस होय आ कृपाणक माने होय तलवार