भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उदासी छा गई चेहरे पे शम्मा-ए-महफ़िल के / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:41, 26 फ़रवरी 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=यगाना चंगेज़ी }} {{KKCatGhazal}} <poem> उदासी छ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उदासी छा गई चेहरे पे शम्मा-ए-महफ़िल के
नसीम-ए-सुब्ह से शोले भड़क उठे दिल के

शरीक-ए-हाल नहीं है कोई तो क्या परवा
दलील-ए-राह-ए-मोहब्बत हैं वलवले दिल के

अजब नहीं के बपा हो यहीं से फ़ितना-ए-हश्र
ज़माने भर में हैं सारे फ़साद इसी दिल के

न संग-ए-मील न नक़्श-ए-क़दम न बांग-ए-जरस
भटक न जाएँ मुसाफ़िर अदम की मंज़िल के

ख़ुशी के मारे ज़मीं पर क़दम नहीं रखते
जब आए क़ाफ़िले वाले क़रीब मंज़िल के

नज़ारा-ए-रुख़-ए-लैला मुबारक ऐ मजनूँ
निगाह-ए-शौक़ ने पर्दे उठाए महमिल के

मुशाहिदे को इक आईना-ए-जमाल दिया
कमाल-ए-इश्क़ ने जौहर दिखा दिए दिल के

ज़बान-ए-‘यास’ से अफ़साना-ए-सहर सुनिए
वो रोना शम्मा का परवानों से गले मिल के