भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

उद्बोधन / जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद'

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:13, 26 दिसम्बर 2011 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जगन्नाथप्रसाद 'मिलिंद' |संग्रह=जीव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिले न ‘प्रियतम’-ज्योत्स्ना के उस
महामिलन के सुख का छोर:
अंतर के आनंद-सिंधु में
फिर उठने दे एक हिलोर।
तोड़ एक पल में जड़ता के
शत-शत बंधन, हे स्वच्छंद!
जाग प्रेरणा की राका में
फिर मेरे प्राणों के छंद!
बड़े भाग्य! पथ भूल आ गया
प्रेम-पर्व भी अबकी बार;
उठ, फिर तीर्थ बने त्रिभुवन का
मेरे कवि-जीवन का ज्वार।
उठ, अवरुद्ध श्वास, इन उत्सुक
घड़ियों में किसका सोना;
नीरवता का वंश-खंड जब
चाह उठे वंशी होना!