भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक रंगमहल की खूँट / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:39, 13 जुलाई 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

एक रंगमहल की खूँट
जिसमें कन्या नै जनम लिया ।

एक रंगमहल की खूँट

जिसमें कन्या नै जनम लिया ।

बाबा तुम क्यों हारे हो

दादसरा म्हारा जीत चला ।

एक रंगमहल की खूँट…………

पोती तेरे कारण हारा हे

पोते के कारण जीत चला ।

एक रंगमहल की खूँट………

उसके पिताजी को फिकर पड़ ग्या

पिताजी तुम क्यों हारे हो

ससुरा तो म्हारा जीत चला ।

एक रंगमहल की खूँट………।

बेटी तेरे कारण हारा हे

बेटे के कारण जीत चला ।

एक रंगमहल की खूँट………