भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कहानी / अमिताभ बच्चन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:31, 10 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अमिताभ बच्चन |अनुवादक=मीना ढाण्ड...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने क्या खोया जिसका तुम्हें दुख है
मैंने रिक्शा खींचते आदमी से पूछा

उसने कहा वे तीन भाई है
माँ बचपन में ही मर गई
वह चाहता था तीनों में प्यार बना रहे
मगर उसकी हर कोशिश बेकार गई

मैंने देखा उसकी कहानी पूरी हो चुकी है
पर वह चाहता है कुछ देर मैं और रूकूँ
उसका शरीर अभी उत्तेजना से हिल ही रहा था


Amitabh

STORY

Which loss you regret most
I asked the rickshaw puller

He said they are three brothers
Mother died when they were young
He wanted all three should live amicably
But his efforts came to naught

This was the end of his story, I thought
But he perhaps wanted me to stay for a while
His body was still shaking with emotion

(Translation from Hindi by Asad Zaidi)