भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

किसने बजाई बंसरी! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:10, 12 अप्रैल 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण' |अनुव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसने बजाई बंसरी!
बरसात की इस रात में मेरी व्यथा कर दी हरी!
किसने बजाई बंसरी!

स्वर-कुंज में मुझको भला,
थपकी लगा, सुख से सुला,
गठरी पुराने प्यार की, दी खोल मोती से भरी!
किसने बजाई बंसरी!

भीनी सुगंधों से बसे-
रोमिल-सलोने चित्र से-
कितने बहाती ला रही, सुधि-निर्झरी, रस की भरी!
किसने बजाई बंसरी!

यह रागिनी युग-युग चले,
गीली रुई-सा मन जले!
रे, प्राण ले कर ही रहेगी, रात की रानी, मरी!
किसने बजाई बंसरी!

बरसात की इस रात में मेरी व्यथा कर दी हरी!
किसने बजाई बंसरी!