भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केवल पलभर / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धुनकी हुई रुई से
बादल को
मुट्ठी में भर लूं
बादल भरे तकिये पर
सिर रखकर
रो लेने दो न!
या सो लेने दो
और गृहस्थी के जंजालो
केवल पलभर
सपनों में खो लेने दो।