भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

केवल / समीर बरन नन्दी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:59, 1 जनवरी 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रेम में मगन रहना चाहता हूँ
फिर भी चिथड़ा ही रहता हूँ ।

नव जलद के सर पर हाथ फेर कर
प्यास मिटाता हूँ ।

उग नहीं रही आत्मा की
मिट्टी में कोई फ़सल

केवल टूटी हुई सुई
ढूँढ़ता रहता हूँ ।