भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कोय बात नै / त्रिलोकीनाथ दिवाकर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:47, 17 नवम्बर 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=त्रिलोकीनाथ दिवाकर |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काटै छै बीरनी
झाड़ै लहरनी
एकंे सताय छै
दोसरें गथाय छै
कोय बात नै।

पुलिसो के डंडा
वकीलो के फंडा
एकें डेंगाय छै
दोसरंे सिझाय छै
कोय बात नै।

लकड़ी के दीमक
नेता के नीयत
एकें सड़ाय छै
दोसरंे लड़ाय छै
कोय बात नै।

सरकारो के घोषणा
अधिकारी के चोसना
एकें गिनाय छै
दोसरें बिलाय छै
कोय बात नै।

गरीबो के झोपड़ी
अमीरो के खोपड़ी
एकें बचाय छै
दोसरंे नचाय छै
कोय बात नै।