भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौमी जोश (ग़ज़ल) / अछूतानन्दजी 'हरिहर'

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:55, 13 अप्रैल 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अछूतानन्दजी 'हरिहर' |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी है जो हो खूँ, जोश जिगर में कौमी।
मुर्दा समझो जो हो गर, होश न नर में कौमी॥

लब पर सदा कौम के हो, जाप भी हर दम कौमी।
मुँह से गर निकले भी मजमूँ तो ज़िकर में कौमी॥

भोज में, शादी-ग़मी में, जहाँ भी हों इकजा।
गीत गर नारियाँ गावें, तो हर घर में कौमी॥

ज़िक्र हर बात में हो जात का पुर-राम कौमी।
कहानी किस्से में हर फर्दो बशर में कौमी॥

कथा व पाठ भजन में, भी हो कौमी उपदेश।
ज्ञान और भक्ति जो कुछ हो "हरिहर" हो कौमी॥