भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या मैंने भूल की / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:29, 18 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या मैंने भूल की
जो स्वतंत्रता की चाह की
अपने वजूद को पहचान दी।
बाहर प्रखर प्रतिभा की आब थी
कौन बर्दाश्त करता
भीतर धधकती आग थी
मेरे पिंजरे की सलाखों
को बार-बार जलाती
मेरे वजूद का लहुलूहान पंछी
पंख फड़फड़ाता, कटे पंखों से भी
उड़ान की गगन चुम्बी
चाह पूरी कर लेता
और फिर लौटकर
उसी कैद में बंद हो जाता
यह राह मैंने खुद चुनी थी
जाने क्यों! जाने क्यों!!