भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुद को कितनी दूर उड़ाया करते हैं / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:48, 16 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी |अनुव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़ुद को कितनी दूर उड़ाया करते हैं,
आसमान का साथ निभाया करते हैं ।

होकर मुझसे ख़फ़ा गए थे जो पंछी,
पिंजरे से आवाज़ लगाया करते हैं ।

दिलों में हमने अब अपना घर बना लिया,
दुआ में रहकर वक़्त बिताया करते हैं ।

मिलकर भी जो देते हैं बस बेचैनी,
उनसे भी हम मिलने जाया करते हैं ।

अपनी-अपनी छत पर पहली बारिश में,
वो हमको हम उन्हें बुलाया करते हैं ।

जब औक़ात पूछते हैं तूफाँ हमसे,
हम काग़ज़ की नाव बनाया करते हैं ।

इसी शौक़ ने हमको ज़िन्दा रक्खा है,
दीवानों को ग़ज़ल सुनाया करते हैं ।