भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खैरलांजी / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:01, 1 जनवरी 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजय चोरमारे |अनुवादक=टीकम शेखाव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूचना का विस्फोट
दुनिया का एक गाँव में तब्दील हो जाना
सँचार की क्रान्ति

किसी के मुट्ठी में इण्डिया, वन इण्डिया
लैण्डलाइन, वायरलेस, मोबाइल, इन्टरनेट
एम० एम० एस०, ई० मेल, चैटिंग
हो रहीं है चर्चाएँ और छा रहें हैं परिसंवाद

मानदेय पाने वाले
पारम्परिक ठेकेदार बैठे है ए० सी० में!
कोई नहीं बोल रहा

किन्तु
सारे गाँव ने मिलकर जो हत्याकाण्ड किया
उसकी ख़बर
कैसे नहीं पहुँची इतने दिनों तक

अब बदलनी चाहिए इंसाफ़ की कसौटी
निन्यानवे निरपराध फाँसी पर चढ़ जाएँ
कोई बात नहीं
परन्तु, छूट न पाए एक भी गुनहगार

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत