भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खोलेगा राज़ कौन तेरी काएनात के / मनमोहन 'तल्ख़'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:55, 1 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मनमोहन 'तल्ख़' |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poe...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खोलेगा राज़ कौन तेरी काएनात के
लाले पड़े हुए हैं यहाँ अपनी ज़ात के

यूँ रूई से ख़याल को रखता हूँ कात के
उड़ते फिरें रूएँ न कहीं मेरी बात के

सब मंुतज़िर हैं ऐसी किसी अपनी मात के
खुल जाएँ सब भरम किसी राह-ए-नजात के

सुनता हूँ मुझ से माँगती है मौत भी पनाह
वो परख़च्चे उड़ाए हैं मैं ने हयात के

ख़ुद को समेटने के बखेड़े में क्यँू पड़े
काहे को हो के रह न गए हादसात के

इन आँधियों पे ज़ारे चमन का तो कुछ न था
क़िस्से बिखर गए हैं मगर पात पात के

कम ये भी तो ख़लाओं में तख़्लीक़ से नहीं
जैसे महल किए है खड़े मुश्किलात से

इस से ज़्यादा रेत के तूफ़ान तूझ में हैं
झरने तेरी निगाह में जितने हैं ज़ात के

नौहा-कुनाँ अज़ल से अँधरों में हैं सदाएँ
ये दुख तो हैं सदाओं की बस एक रात के

टकराव बे-सबब जो नज़र और दिल का था
अफ़्साने सब ने घड़ लिए एक रात के

सच सच बता के ‘तल्ख़’ ये दिल की नवा में यूँ
कैसे किए हैं जम्मा ये दुख काएनात के