भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चांद / अग्निशेखर

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:09, 31 अक्टूबर 2009 का अवतरण

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बादलों के पीछे
क़ैद है चांद
अंधेरे में डुबकी मार कर
                  आए हैं दिन

खुली खिड़कियाँ कर रही हैं
बादलों के हटने का इन्तज़ार

उमस में स्थगित हैं
लोगों के त्यौहार