भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ज़िन्दगी / रफ़ीक शादानी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:14, 1 दिसम्बर 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कबहूँ ठण्डी तौ कबहूँ गरम ज़िन्दगी
एक गँजेड़ी कै जइसे चिलम ज़िन्दगी।

का कही ऐसा पावा है हम ज़िन्दगी
बिन सियाही के जइसे कलम ज़िन्दगी।

दिल के चक्कर मा अस छीछालेदर भई
हाय सत्यम सिवम सुन्दरम ज़िन्दगी।

हम ई जानेन कि अब दुख से फुरसत मिली
दुह घड़ी हँसि के भै बेधरम ज़िन्दगी।