भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिनगी रो गाड़ी / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:07, 29 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरज पंडित |अनुवादक= |संग्रह=अंग प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल-चल रे जिनगी रोॅ गाड़ी
पाछू मेॅ घर छै आगू मेॅ बाड़ी। चल-चल

हय जिनगी के गाड़ी मेॅ
बैठी केॅ पिछुआरी मेॅ।
कोय पियै सिगरेट
कोय होय जाय छै लेट।
सोची-सोची माथा ठोकी कानै छै अनाड़ी। चल-चल

हेकरोॅ इंजिन ढीला-ढाला
देखै मेॅ छै खुबै काला।
जेतना देबोॅ कोयला पानी
उतने फैलतोॅ खूब जवानी।
सीटी मारी आगू बढै़, देखै नय पिछाड़ी। चल-चल

हय जिनगी एक गाड़ी मानोॅ
लोगोॅ पर असवारी जानोॅ।
जे चलै छै लाईन सेॅ
उ कहै ठकुराईन सेॅ।
बैठी हेकरा दुनियाँ देखोॅ खोली केॅ केबाड़ी। चल-चल

टीशन पर नय समय गुजरोॅ
तोंय भारत के राज दुलारोॅ।
चलतेॅ जा जिनगी के नाम
करलेॅ जा तोंय बढ़िया काम।
देखी-देखी सब हुलसाबै, आँगन घर फूलबाड़ी। चल-चल

जखनी अइतों अंतिम टीशन
ई दुनिया से जाय के परमीशन।
लेखा-जोखा के परताप
दुनियाँ जानतोॅ अपने आप।
तोरा देखी दुनियाँ बढ़ै मानी केॅ अगाड़ी। चल-चल