भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगी : टाँचा नमारेको टिकट / विनोद अश्रुमाली

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:56, 5 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विनोद अश्रुमाली |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधुरो जीवनको
सबैथोक त अधुरो छ
धरती–आकाश, घाम–जून–तारा
सारा–सारा
आधा छ,
अधुरो छ;
तर यो अधुरो कहानीबीच
जब–जब तिमी मुस्काइदिन्छ्यौ
तब यो जिन्दगी
त्यो हुलाक टिकटजस्तै लाग्छ
जो लिफाफामा टाँसिएको भए पनि
हुलाकको टाँचा लाग्न छुटेको हुन्छ ।