भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिसे जाना जिसे समझा क़रीबी / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:04, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>जिसे जा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिसे जाना जिसे समझा क़रीबी
नहीं था शख़्स वो अपना क़रीबी

निशाना भीड़ में हम ही बने हैं
कोई तो है यहाँ अपना क़रीबी

बचाना ख़ुद को फिर शर्मिदगी से
कोई गर जांच में निकला क़रीबी

हमारे साथ रहता है हमेशा
ताअल्लुक़ ग़म से है इतना क़रीबी

मैं शब भर चांद से करता हूँ बातें
वही इक दोस्त है मेरा क़रीबी

मुसलसल हिचकियां क्यों आ रही हैं
मुसिबत में है कोई क्या क़रीबी