भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिस को निस्बत हो तुम्हारे नाम से / महेश चंद्र 'नक्श'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:49, 30 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेश चंद्र 'नक्श' |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस को निस्बत हो तुम्हारे नाम से
क्यूँ डरे वो गर्दिश-ए-अय्याम से

फिर कोई आवाज़ आई कान में
फिर ख़नक उट्ठे फ़ज़ा में जाम से

उन निगाहों को न जाने क्या हुआ
जिन में रक़्साँ थे नए पैग़ाम से

फिर किसी की बज़्म का आया ख़याल
फिर धुआँ उट्ठा दिल-ए-ना-काम से

कौन समझे हम पे क्या गुज़री है ‘नक्श’
दिल लरज़ उठता है ज़िक्र-ए-शाम से