भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"दे डालो हो मोड़ादे म्हारी झबिया हो राज / मालवी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=मालवी }} KKCa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
|भाषा=मालवी
 
|भाषा=मालवी
 
}}
 
}}
KKCatMalawiRachna‎
+
{{KKCatMalawiRachna‎}}
 
<poem>
 
<poem>
 
दे डालो हो मोड़ादे म्हारी झबिया हो राज
 
दे डालो हो मोड़ादे म्हारी झबिया हो राज

15:33, 29 अप्रैल 2015 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

दे डालो हो मोड़ादे म्हारी झबिया हो राज
झबियां में लागा आदा
म्हारी सगी ननंद रा दादा
झबियां में लागा आखा
म्हारी सगी नणंद रा काका
झबियां में लागा आंबा
म्हारी सगी नणंद रा मामा
झबियां में लागा हीरा
म्हारी सगी नणंद रा बीरा
झबिया में लागा मोती
म्हारी सगी नणंद रा गोती।