भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नक्शा जो मन के कागज़ पर बनता है / विनय कुमार

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:50, 29 जुलाई 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नक्शा जो मन के कागज़ पर बनता है।
उसके जैसा कहाँ कभी घर बनता है।

एक पुराने डर के चलते बनवाया
घर के चलते रोज़ नया डर बनता है।

शीत युद्ध के अंदेशे के साये में
क़दम क़दम पर रिश्ता बंकर बनता है।

गेहुअन बनकर गद्दी पानेवाले को
गद्दी जब डसती है अज़गर बनता है।

मेरे भीतर बस मेरा ‘मैं’ रहता है
मेरा जो है मेरे बाहर बनता है।

दुख का धंधा छोड़ोगे तो समझोगे
कैसे कोई दुख पैग़म्बर बनता है।

पैरों के नीचे पानी सिर पर पृथ्वी
जब भी कोई देश दिगम्बर बनता है।

बनता है जनवरी काम पड़ जाने पर
जैसे निकला काम दिसम्बर बनता है।