भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"नीर भरी दुख की बदली / महादेवी वर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=महादेवी वर्मा  
 
|रचनाकार=महादेवी वर्मा  
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatKavita}}
 +
<poem>
 +
मैं नीर भरी दु:ख की बदली!
  
मैं नीर भरी दु:ख की बदली!<br>
+
स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,
 +
क्रन्दन में आहत विश्व हंसा,
 +
नयनों में दीपक से जलते,
 +
पलकों में निर्झरिणी मचली!
  
 +
मेरा पग-पग संगीत भरा,
 +
श्वासों में स्वप्न पराग झरा,
 +
नभ के नव रंग बुनते दुकूल,
 +
छाया में मलय बयार पली,
  
स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,<br>
+
मैं क्षितिज भॄकुटि पर घिर धूमिल,
क्रन्दन में आहत विश्व हंसा,<br>
+
चिंता का भार बनी अविरल,
नयनों में दीपक से जलते,<br>
+
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,
पलकों में निर्झरिणी मचली!<br><br>
+
नव जीवन अंकुर बन निकली!
  
मेरा पग-पग संगीत भरा,<br>
+
पथ को न मलिन करता आना,
श्वासों में स्वप्न पराग झरा,<br>
+
पद चिन्ह न दे जाता जाना,
नभ के नव रंग बुनते दुकूल,<br>
+
सुधि मेरे आगम की जग में,
छाया में मलय बयार पली,<br><br>
+
सुख की सिहरन बन अंत खिली!
  
मैं क्षितिज भॄकुटि पर घिर धूमिल,<br>
+
विस्तृत नभ का कोई कोना,
चिंता का भार बनी अविरल,<br>
+
मेरा न कभी अपना होना,
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,<br>
+
परिचय इतना इतिहास यही  
नव जीवन अंकुर बन निकली!<br><br>
+
उमड़ी कल थी मिट आज चली!
 
+
</poem>
पथ को न मलिन करता आना,<br>
+
पद चिन्ह न दे जाता जाना,<br>
+
सुधि मेरे आगम की जग में,<br>
+
सुख की सिहरन बन अंत खिली!<br><br>
+
 
+
विस्तृत नभ का कोई कोना,<br>
+
मेरा न कभी अपना होना,<br>
+
परिचय इतना इतिहास यही <br>
+
उमड़ी कल थी मिट आज चली!<br><br>
+

17:44, 26 मार्च 2016 के समय का अवतरण

मैं नीर भरी दु:ख की बदली!

स्पंदन में चिर निस्पंद बसा,
क्रन्दन में आहत विश्व हंसा,
नयनों में दीपक से जलते,
पलकों में निर्झरिणी मचली!

मेरा पग-पग संगीत भरा,
श्वासों में स्वप्न पराग झरा,
नभ के नव रंग बुनते दुकूल,
छाया में मलय बयार पली,

मैं क्षितिज भॄकुटि पर घिर धूमिल,
चिंता का भार बनी अविरल,
रज-कण पर जल-कण हो बरसी,
नव जीवन अंकुर बन निकली!

पथ को न मलिन करता आना,
पद चिन्ह न दे जाता जाना,
सुधि मेरे आगम की जग में,
सुख की सिहरन बन अंत खिली!

विस्तृत नभ का कोई कोना,
मेरा न कभी अपना होना,
परिचय इतना इतिहास यही
उमड़ी कल थी मिट आज चली!