भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पत्ता / रजनी अनुरागी

Kavita Kosh से
Dr. ashok shukla (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:31, 17 सितम्बर 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रजनी अनुरागी |संग्रह= बिना किसी भूमिका के }} <Poem> फ…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फिर गिरा सूखा पत्ता

एक नया जीवन मिला
कितनी ही कोंपलों को
उसकी छोड़ी जगह पर
निकलेंगी कितनी ही शाखें
उन पर खिलेंगे कितने ही नए पत्ते

कितनी हरियाली, कितनी हलचल होगी
कितना होगा जीवन
कोई कैसे बताए

क्या पता
कहीं काट ही न दिया जाये वृक्ष
किसी सड़क के नाम पर

पर अभी-अभी तो गिरा है
एक और पत्ता टूटकर
सैकड़ों कोंपलों को जगह देता