भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फागुन का त्यौहार / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:26, 20 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= रमेश र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरसे रंग-फुहार छनाछन होरी है ।
फागुन का त्योहार छनाछन होरी है ।।

कोऊ मलै गुलाल कपोलन
कोऊ लै पिचकारी
कोऊ ढोल मजरीन के संग
नाचे दे दे तारी

बहै रंगीली ब्यार छनाछन होरी है ।
फागुन का त्योहार छनाछन होरी है ।।

बालक-बूढ़े, नर-नारिन के
अंग-अंग नसा समायौ
महल कुटी को भेद मिटावन
वारौ मौसम आयौ
हर आँगन दरबार छनाछन होरी है ।
फागुन का त्योहार छनाछन होरी है ।।

दिसा-दिसा पगली-सी झूमै
घड़ी-घड़ी मस्तानी
दीप सिखा-सी काया झूमै
मन झूमै लासानी
झूमै सभ संसार छनाछन होरी है ।
फागुन का त्योहार छनाछन होरी है ।।