भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहै पुरवैया कोसी माय डोलले सेमैर / अंगिका

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:30, 11 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=अंगिका }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बहै पुरवैया कोसी माय डोलले सेमैर,
नदिया किनारे महामैया भइये गेलखिन ठाढ़ि ।
नैया लाउ नैया लाउ मलहा जे भाय,
पाँचो बहिन दोलिया मलहा उतारि दियौ पार ।
कथी के नैया कोसी माय कथी के पतवार,
कोने विधि नैया उतारि दियौ पार ।
सोना के नैया कोसी माय रूपा के पतवार,
झमकैत दोलिया उतारि दियौ पार ।
खनै नैया खेवै कोसी माय खने भसियाय,
खने मलहा पूछै जाति के ठेकान ।
जाति के रे छियै मलहा बाहानक बेटी,
नाम हमर छियै कासिकामाय ।
आब की पूछै छह मलहा दिल के बात,
बँहिया जे छूबै मलहा कोढ़ी फूटि जाय ।