भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैगुनी / रमेश क्षितिज

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:01, 23 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रमेश क्षितिज |अनुवादक= |संग्रह= आ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धेरै माया ऋण हुन्छ तिर्न गाह्रो होला
नदेऊ म बैगुनीलाई त्यसै उधारो होला

साँची राख आफ्नो माया हाँसीराख यस्तै
शरदको आकासमा जून खुलेजस्तै
मनमा थोरै ठाउँ देऊ त्यति भए पुग्छ
बन्धन हो पीरति त व्यर्थै मन दुख्छ !

यही जूनि ठेगान छैन अर्को जूनि पनि
कसोगरी भनूँ मैले सँगै जीउँछु भनी
चाहनाका लिपिहरू पढ्न जान्दिनँ म
कसो गर्दा हुन्छ माया गर्न जान्दिनँ म