भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भुला दिया भी अगर जाए सरसरी किया जाए / हम्माद नियाज़ी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:32, 12 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हम्माद नियाज़ी }} {{KKCatGhazal}} <poem> भुला दि...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भुला दिया भी अगर जाए सरसरी किया जाए
मुतालया मिरी वहशत का लाज़मी किया जाए

हम ऐसे लोग जो आइंदा ओ गुज़िश्ता हैं
हमारे अदह को मौजूद से तही किया जाए

ख़बर मिली है उस ख़ुश-ख़बर की आमद है
सो एहतिमाम-ए-सुख़न आज मुल्तवी किया जाए

हमें अब अपने नए रास्ते बनाने हैं
जो काम कल हमें करना है वो अभी किया जाए

नहीं बईद ये अहकाम-ए-ताज़ा जारी हों
कि गुम्बदों से परिंदों को अजनबी किया जाए

बस एक लम्हा तिरे वस्ल का मयस्सर हो
और उस विसाल कि लम्हे को दाइमी किया जाए