भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भैगो अब तिम्रा कुरा मान्छु अलिकति / ललिजन रावल

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:22, 28 मई 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= ललिजन रावल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भैगो अब तिम्रा कुरा मान्छु अलिकति
आजलाई वाचा-कसम खान्छु अलिकति

जति रिस उठे पनि मन दुखे पनि
ढुङ्गा होइन फूलले फेरि हान्छु अलिकति

जे-जे दियौ तिम्ले सधैँ मैले थापी रहेँ
अति भयो आज म त छान्छु अलिकलि

माया टाढा हुने रैछ सधैँ नजिक हुँदा
तिमीबाट टाढा आज जान्छु अलिकति

आफन्तले जब-जब घात मात्रै गर्छ
शत्रुलाई बरु आˆनो ठान्छु अलिकति

कहाँकहाँ पुग्नुपर्छ, कति हिँड्नु पर्ला ?
यात्राभरि सम्झना त्यो लान्छु अलिकति ।