भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मतदान / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:54, 25 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एस. मनोज |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatMaithiliRac...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोकतंत्र क' राज चलैबै
नर नारी सभ वोट खसैबै
वोटे सँ आब जुग बदलै छै
वोटे क' करबै गुणगान
चलै चलू करबै मतदान।

भाग्यक रेखा वोट सँ बनतै
अंधकार सभ वोटे हरतै
लाठी बाला तंत्र न आबै
सभहक सिखबू यैह सद्ज्ञान
चलै चलू करबै मतदान।

व्यस्क लोक सभ वोट खसैतै
कानून बाला राज चलैतै
लोकतंत्र क' पाबनि थिक ई
यैह बढ़ाबै अप्पन शान
चलै चलू करबै मतदान।