भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन के उस गीले कोने में / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:07, 26 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वाति मेलकानी |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने से आँख बचाकर
मैंने-तुमने
एक बीज बोया था
मन के उस गीले कोने में
जहाँ धूप
ज़रा कम ही जाती थी।
एक पौंधा खामोशी से उगा
और लगातार जिन्दा रहा
मेरी और तुम्हारी
सैकड़ों साँसों के बीच।
कभी-कभी हम दोनों ने
छू कर छोड़ा था
पत्तों में छिपती कलियों को
और दोनों के हाथ
ओस से भीग गये थे।
गुजरे तमाम सालों में
उस फूल ने
न खिल पाने का दर्द सहा
जिसकी पंखुड़ियों में
हमारे प्यार के हजारों रंग महकते
और
अब मुरझा रहा है
खिले बिना ही।
सुनो !
तुम दरख्त बन जाने के बाद
उस मुरझाते फूल की
अनछुई ताज़गी को
याद तो करोगे ना।