भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन को भा जानेवाले दिन‌ / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:57, 30 जून 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 याद मुझे अक्सर आ जाते, आने,दो आने वाले दिन|
दूध मलाई गरम जलेबी, और रबड़ी खाने वाले दिन||

 तीस रुपये में मझले काका, दिल्ली तक होकर आ जाते|
एक रुपये में ताजा खाना, होटल में छककर खा आते||

 बिन कुंडी के बाथ रूम में, बेसुर में गानेवाले दिन|
याद मुझे अक्सर आ जाते, आने दो आने वाले दिन||

 नाई काका बाल बनाने, पेटी लेकर घर आ जाते|
दो रुपये में एक सैकड़ा, चाचा हरे सिंगाड़े लाते||

 जेब खर्च के लिये पिता से, दो पैसे पाने वाले दिन|
याद मुझे अक्सर आ जाते, आने दो आने वाले दिन||

 गब्बर बैल जुती गाड़ी में, भेरों के मेले में जाना|
फुलकी,गरम कचौड़ी, बर्फी, किसी हाथ ठेले पर खाना||

 हँसते गाते, धूम मचाते, मन को भा जाने वाले दिन|
याद मुझे अक्सर आ जाते, आने दो आने वाले ||