भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ / एस. मनोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुख दुख में एक आस तुम्हीं थी
मां मेरा विश्वास तुम्हीं थी

असह्य वेदना के भी क्षण में
कलुष नहीं उपजे थे मन में

तुमने ही सद्ज्ञान सिखाया
कर्मयोग का पाठ पढ़ाया

ज्योति पुंज संसार तुम्हीं थी
हर सुख का आधार तुम्हीं थी

तुम ही मरियम, तुम ही सीता
हम सब की रामायण गीता

तुम से ही सुरभित फुलवारी
पुष्प चमकते क्यारी क्यारी

हर क्यारी की जड़ में माँ है
सुरभित होता सकल जहां है

तुमको समिधा में प्रतिवेदित
अश्रुपूर्ण है नमन निवेदित