भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"यह मौन भी मौन कहाँ / बलदेव वंशी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
|रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव
+
|रचनाकार= बलदेव वंशी
 
|संग्रह=  
 
|संग्रह=  
 
}}  
 
}}  

14:14, 7 अक्टूबर 2010 के समय का अवतरण


यह मौन भी मौन कहाँ

तनाव अवर भय के
मंथर मंथर हिलाते
तालाब के बंधे जल के
नीचे
युगों युगों से
एक चीत्कार
मौन में थमा हुआ है!

शिव
और विष
और गंगावतरण का मिथक
तब से संगत बना हुआ है!...