भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रास्ते पुर-पेच राही रूस्तगार / शोरिश काश्मीरी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:31, 29 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शोरिश काश्मीरी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem>...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रास्ते पुर-पेच राही रूस्तगार
रहबरों के नक़्श-ए-पा गुम हो गए

ज़बेत-ए-अम्वाज तेरा शुक्रिया
नाव डूबी ना-ख़ुदा गुम हो गए

शैख़ साहब हम-रह-ए-पीर-ए-मुग़ाँ
मय-कदे में क्या हुआ गुम हो गए

ख़ंदा-ए-महर-ए-दरख़्शाँ की क़सम
इस सहर के आश्ना गुम हो गए

अब कहाँ शेर-ओ-सुख़न की रौनक़ें
शाएर-ए-शोला-नवा गुम हो गए