भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूपक / रामकृष्ण वर्मा 'बलवीर'

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:02, 28 सितम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} {{KKCatBhojpuriRachna}...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोरा गोरा रंग हौ भभुतवा रमौले मानो सेली लाल ललिया लकीर।
रूपवा के भिखिया पलकिया में माँगे ‘बलविरिवा’ की अँखियाँ फकीर।।
झपझप-झपकेली सोई मानो गोरिया री झुक-झुक करेली सलाम।
(तोरे) गोड़वा की धुरिया बरौनियाँ से पोंछें ‘बलविरिवा’ के अँखिया गुलाम।।