भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लेटइ कदोइया से गोरी के बदनमा / शेष आनन्द मधुकर

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:37, 11 अप्रैल 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेटइ कदोइया से गोरी के बदनमा,
ओकरो हुलस जइसे लगलइ चननमा।

होठवा से फूटऽ हइ तान।
रोपइ गोरिया खेतवा में धान।

तनि-तनि बदरा भी रोवऽ हइ अकसवा से,
तनि तनि धरती के देह।

खेतवा में छींटल हइ धनवा के अँटिया,
मनवाँ से रहइ जइसे नेह।

निहुरल निहुरल डुबलइ सुरुजवा कि,
जइसे डुबइ रे अरमान।

बाप के जिया में जइसे सोच हो हइ रात दिन,
बेटिया के देख के सेयान।

ओइसने गिरहत्थवन के सोचिते बितऽ हइ दिन,
मोरिया के देख के जवान।

अप्पन अकसवा ला, अपन अंगनवाँ ला,
ए के सुरुज एके चान।

केकरो के बेटिया सिंगरवे में रात दिन,
महले अटरिया के राज,

केकरो के बेटिया के फटले गुदरिया
एको साम जुरइ न अनाज,

केकरो के गोड़ रोज रंगा हइ रकतवा से,
केकरो कदोइये परान।