भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"वक़्त तलाशी लेगा / रमेश रंजक" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
|रचनाकार=रमेश रंजक  
+
|रचनाकार=रमेश रंजक
 +
|संग्रह=हरापन नहीं टूटेगा. / रमेश रंजक  
 
}}
 
}}
 
{{KKCatNavgeet‎}}
 
{{KKCatNavgeet‎}}
 
<poem>
 
<poem>
      वक़्त तलाशी लेगा
+
      वक़्त तलाशी लेगा
 
       वह भी चढ़े बुढ़ापे में
 
       वह भी चढ़े बुढ़ापे में
 
       सँभल कर चल ।
 
       सँभल कर चल ।

00:54, 25 दिसम्बर 2011 के समय का अवतरण

       वक़्त तलाशी लेगा
       वह भी चढ़े बुढ़ापे में
       सँभल कर चल ।

कोई भी सामान न रखना
जाना-पहचाना
किसी शत्रु का, किसी मित्र का
ढंग न अपनाना

       अपनी छोटी-सी ज़मीन पर
       अपनी उगा फसल
       सँभल कर चल ।

ख्वारी हो सफ़ेद बालों की
ऐसा मत करना
ज़हर जवानी में पी कर ही
जीती है रचना

         जितना है उतना ही रख
         गीतों में गंगाजल
         वे जो आएंगे
         छानेंगे कपड़े बदल-बदल
         सँभल कर चल ।