भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विंश प्रकरण / श्लोक 8-14 / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
सम्यक (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:46, 2 फ़रवरी 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मृदुल कीर्ति |संग्रह = अष्टावक्र गीता / मृदुल की...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं शुद्ध, चेतन आत्मा,किंचित अकिंचित है कहाँ,?
अनु, लघु, महिमा, प्रमाता और प्रमाणित है कहाँ?------८

सर्वदा निष्क्रिय कहाँ, विक्षेप और एकाग्रता ?
मूढ़ता, अज्ञान, सुख और है कहाँ पर व्यग्रता ?-----९

वृति ज्ञान शून्य स्वरुप,अब मुझमें कहाँ व्यवहार है ?
सुख कहाँ और दुःख कहाँ, परमार्थता से पार है?-----१०

जनक उवाचः

विमल हूँ मुझमें कहाँ, माया कहाँ संसार है ?
प्रीति और विरति कहाँ ,कहाँ जीव ब्रह्म अपार है ?----११

आत्मा है कूटस्थ और यह सर्वदा अविभाज्य है,
प्रवृति और निवृति कहाँ, मुझे ग्राह्य और क्या त्याज्य है ?-----१२

शिव रूप हूँ मैं उपाधि बिन,क्योंकि आत्मा निरपेक्ष है,
कहाँ शास्त्र, गुरु, उपदेश, शिष्य हैं, कहाँ बंधन मोक्ष हैं ?------१३

आस्ति और नास्ति कहाँ, और दो कहाँ पर एक है?
नहीं बहुत कहने का प्रयोजन, ब्रह्म सर्वम् एक है.--------१४
 
।।इति श्री अष्टावक्रगीता काव्यानुवाद।।