भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सहेली की विदा / हरिवंश राय बच्चन / विलियम बटलर येट्स

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:13, 19 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विलियम बटलर येट्स |अनुवादक=हरिवं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुन्दर मुझको मिली सहेली
वासन्ती भ्रू और अचंचल हाथों वाली,
                       भूरे-भूरे बालों वाली,
मैंने की कल्पना अन्ततोगत्वा मेरी
                 पूर्व निराशा सफ्ल प्रेम में परिणत होगी ।
एक दिवस उसने मेरे अन्तर में झाँका,
देखा वहाँ तुम्हारी प्रतिमा प्रस्थापित है,
और सहेली मेरी मुझसे विदा हो गई
                                    रोती-रोती ।

मूल अँग्रेज़ी से हरिवंश राय बच्चन द्वारा अनूदित

लीजिए अब पढ़िए यही कविता मूल अँग्रेज़ी में
              William Butler Yeats
The Lover Mourns For The Loss Of Love

PALE brows, still hands and dim hair,
I had a beautiful friend
And dreamed that the old despair
Would end in love in the end:
She looked in my heart one day
And saw your image was there;
She has gone weeping away.