भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूती थी रंग महल में / राजस्थानी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:25, 9 सितम्बर 2016 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सूती थी रंग महल में,
सूती ने आयो रे जन जाणु,
सुपना रे बैरी नींद गवाईं रे

सुपने में आग्या जी, म्हारी नींद गवाग्या जी
सूती है सुख नींदा में म्हाने तरसाग्या जी
सुपना रे बैरी नींद गवाईं रे

तब तब महेला ऊतरी,
गई गई नन्दल रे पास,
बाईसा थारो बिरो चीत आयो जी

पूछे भाभी गेली बावली, बीरोजी गया है परदेस,
सुपने तो तने झुटो ही आयो रे

देखो ननद थारी भाईजी की बातां,
लाज शरम नहीं आवे,
सुपने के बाहने नैणां से नैण मिलाग्या जी

सुपने में आग्या जी, म्हारी नींद गवाग्या जी,
सूती है सुख नींदा में म्हाने तरसया गया जी,
सुपना रे बैरी नींद गवाईं रे