भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जमहूरियत / इक़बाल

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:54, 6 जुलाई 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इक़बाल }} {{KKCatNazm}} <poem> '''जमहूरियत''' इस राज़<ref>रहस्य </ref>…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जमहूरियत

इस राज़<ref>रहस्य </ref>को इक मर्दे-फ़िरंगी<ref>यूरोपीय व्यक्ति</ref> ने किया फ़ाश<ref>प्रकट</ref>
हरचंद कि दाना<ref>समझदार</ref>इसे खोला नही‍ करते

जमहूरियत<ref>लोकतंत्र</ref>इक तर्ज़े-हुकूमत<ref>शासन पद्धति</ref>है कि जिसमें
बन्दों को गिना करते है‍ तोला नहीं करते

शब्दार्थ
<references/>