भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

निराला का बसंत / दीपाली अग्रवाल

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:59, 20 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दीपाली अग्रवाल |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 तुम्हारी बातें जैसे 'जूही, नरगिस, बेला' खिलें',
तुम्हारी मौजूदगी 'वनबेला' से तारतम्य है,
तुम्हारी छुअन कि लगे 'शिशिर' का आगमन,
तुम्हारी याद मानो 'सीकर' की महक
और तुम ख़ुद ?
लगता है कि 'निराला' का 'बसंत' आ गया