भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बेटियो के सभ दियो पढ़ाउ / एस. मनोज

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:52, 25 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एस. मनोज |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatMaithiliRac...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेटियो के सभ दियो पढ़ाउ
पढाउ यै बहिना
बेटियो के सभ दियो पढाउ

बेटा आ बेटी मे फर्क हम कैलियै
बेटी क जिनगी बनैबे नहि कैलियै
बेटियो क जिनगी बनाउ
बनाउ यै बहिना
बेटियो के सब दियो पढाउ

अंधविश्वास मे सिमटल छी अहिना
ज्ञान विज्ञान सँ कोनो काजे नहि जहिना
ज्ञान दिश नजैर के घुमाउ
घुमाउ यै बहिना
बेटियो क सभ दियो पढाउ

लोकतंत्र मे समता चाही
सभ्य समाज के हम सब छी राही
अपनो आब जिनगी सजाउ
सजाउ यै बहिना
बेटियो क सभ दियो पढाउ