भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अमलताश / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:51, 11 अप्रैल 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरोजिनी कुलश्रेष्ठ |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमलताश के सुन्दर फूल
झुग्गे से लटके हैं फूल
गरमी में भी खिलजाते हैं
भर जाते डालों पर फूल
दूर दूर से बच्चे आते
स्वर्णिम रूप दिखाते फूल
झुमके से माला से लटके
हमको पास बुलाते हैं फूल
फलियों से औषधि बनती है
उपयोगी अनुपम है फूल
ग्रीष्म ऋतु में खिलते है जब
अति सुन्दर लगते है फूल
अमलताश के सुन्दर फूल
झुग्गे से लटके हैं फूल