भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जतसारी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:01, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

132.

कर्त्ता राम चहु युगवा रेकी। पिसि लेहु कर्म केरावहु रेकी॥
किलवा गाड़ि मन गगन बबुरवा रे। जुक्ति के जुअवा मेरावहु रे.।
चितकै चउरवा दयाकै दउरवा रे.। सहजै झुकिय झिँकवा नावहु रे.॥
मोह मकरिया छोड़ाव बहुरिया रे.। साधु संघतिकै लदनिया रे.॥
जे घनहरिया बइठु जँत सरिया रे.। धरनी से धनि अति आगकर रे.॥1॥